Home >>> धर्म >>> भूतभावन भगवान श्रीभोलेनाथ जी पावन नगरी देवतालाब मे क्षेत्र के वरिष्ठ कांग्रेस नेता व समाज सेवी शिक्षा विद डा.यस.यस.तिवारी के आयोजकत्व मे विगत वर्ष की भाति इस वर्ष भी मानस कोकिला सुश्री अन्नपूर्णा जी के मुखारविन्दो से आज श्रीराम कथा के तीसरा दिन हजारो की संख्या मे कथा सुनने के लिए श्रद्धालुओ की भीड़ उमड़ पड़ी ।

भूतभावन भगवान श्रीभोलेनाथ जी पावन नगरी देवतालाब मे क्षेत्र के वरिष्ठ कांग्रेस नेता व समाज सेवी शिक्षा विद डा.यस.यस.तिवारी के आयोजकत्व मे विगत वर्ष की भाति इस वर्ष भी मानस कोकिला सुश्री अन्नपूर्णा जी के मुखारविन्दो से आज श्रीराम कथा के तीसरा दिन हजारो की संख्या मे कथा सुनने के लिए श्रद्धालुओ की भीड़ उमड़ पड़ी ।

इस अवसर पर क

था मे आज भगवान मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम जी के विवाह की कथा कहते हुये उनके कोमल स्वभाव वर्णन किया एवं शिव विवाह की कथा बडे ही विस्तार रूप कहते हुये मानस कोकिला ने भारतीय नारी के पतिव्रता धर्म को बताया कि भारत की बेटी दो दो परिवारो को संभालने की जिम्मेदारी अपनी अंतिम सास तक निभाती है।भारत की बेटिया परिवार की जिम्मेदारी और संस्कार की धनी होती है।सुश्री अन्नपूर्णा माता जी ने विवाह संस्कार को विस्तार से बताते हुए कहा कि भारतीय बेटी का हाथ पिता जिसके हाथ मे बेटी का हाथ ऐक बार सौप देते है बेटी जीवन भर चाहे दुख हो या सुख जीवन भर अपने नारी धर्म को निभाती है।
कथा के तीसरे दिन भी भारी भीड़ रही ।

अन्य अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं| आप हमारा एंड्राइड ऐप भी डाउनलोड कर सकते है|

loading...

Check Also

” सम्पूर्ण श्रीमद्भगवद्गीता ” गतांक से आगे – अध्याय सप्तम : ज्ञानविज्ञानयोग (भगवद्ज्ञान) रसोऽहमप्सु कौन्तेय प्रभास्मि शशिसूर्ययोः। प्रणवः सर्ववेदेषु शब्दः खे पौरुषं नृषु ।।8।।

हे कुन्तीपुत्र! मैं जल का स्वाद हूंँ, सूर्य तथा चन्द्रमा का प्रकाश हूंँ, वैदिक मन्त्रों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *