Home >>> सोनभद्र / सिंगरौली >>> अलीगढ़ बच्चों से स्कूल में जमीन में खुरपे से खुदाई कर ईटों द्वारा क्यारियां बनवाई जा रही है

अलीगढ़ बच्चों से स्कूल में जमीन में खुरपे से खुदाई कर ईटों द्वारा क्यारियां बनवाई जा रही है

बच्चों से स्कूल में जमीन में खुरपे से खुदाई कर ईटों द्वारा क्यारियां बनवाई जा रही है,,बीजेपी सरकार के शिक्षा मंत्री का गांव और उत्तर प्रदेश से तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके माननीय कल्याण सिंह जी और एटा से बीजेपी सांसद राजवीर उर्फ राजू का पैतृक गांव मंडोली है

Slug-बच्चों से स्कूल में जमीन में खुरपे से खुदाई कर ईटों द्वारा क्यारियां बनवाई जा रही है,,,बीजेपी सरकार के शिक्षा मंत्री का गांव और उत्तर प्रदेश से तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके माननीय कल्याण सिंह जी और एटा से बीजेपी सांसद राजवीर उर्फ राजू का पैतृक गांव मंडोली है

एंकर–जिला अलीगढ़ उत्तर प्रदेश से बीजेपी सरकार के शिक्षा मंत्री का गांव और उत्तर प्रदेश से तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके माननीय कल्याण सिंह जी और एटा से बीजेपी सांसद राजवीर उर्फ राजू का पैतृक गांव मंडोली है आज और अब हम जो आपको इनके गांव मैं बने प्राथमिक प्राइमरी स्कूल की तस्वीरें दिखाने जा रहे हैं इन तस्वीरों को देखने के बाद आप भी सोचने पर मजबूर हो जाएंगे इस स्कूल में बच्चों से क्यारियां बनवाई जा रही हैं

V/0–उत्तर प्रदेश सरकार मैं शिक्षा मंत्री के गांव में बच्चों से कराया जा रहा है कार्य बच्चों से स्कूल में क्यारिया बनवाई जा रही है खुरपे से खुदाई द्वारा ईटी लगवाई जा रही है और पढ़ने के वक्त स्कूल में बच्चों से कार्य कराया जा रहा है जिन बच्चों के हाथों में किताब और पेंसिल होनी चाहिए इन्हीं बच्चों के हाथों में स्कूल के टीचरों ने थमाया ईट और खुरपा

V/0–आपको बता दें कि इसी गांव के उत्तर प्रदेश सरकार में शिक्षा मंत्री संदीप सिंह हैं और कल्याण सिंह के बेटे के पुत्र भी हैं यह गांव माननीय राज्यपाल राजस्थान व पूर्व मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश कल्याण सिंह का गांव मंडोली है कल्याण सिंह जी खुद तीन बार उत्तर प्रदेश से मुख्यमंत्री रह चुके हैं और उनके बेटे बीजेपी से एटा से सांसद हैं इन तीनों के सत्ता में रहते वक्त भी गांव की इस लचर शिक्षा का खामियाजा इस स्कूल में पढ़ रहे बच्चों को उठाना पड़ रहा है ना तो गांव में टीचर है अगर टीचर है अभी तो वह प्रशिक्षु और एक शिक्षा मित्र है अगर शिक्षा मंत्री के गांव के शिक्षा का स्तर इतना बदहाल है तो प्रदेश की शिक्षा का स्तर का क्या हाल होगा यह छोटे-छोटे बच्चे जो यहां शिक्षा सीखने के लिए आते हैं और जो टीचर इन्हें पढ़ाते हैं उनको यह भी नहीं पता कि जो बच्चे स्कूल में शिक्षा ग्रहण करते हैं उन्हें किताब पकड़ने का भी पता नहीं है उल्टी किताब हाथों में लेकर यह बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे ना तो इस स्कूल में बच्चों बैठने के लिए बेंच की व्यवस्था है और ना ही स्कूल में कोई साफ-सफाई है इतनी ठंड में इन बच्चों को जमीन पर बैठने को मजबूर है स्कूल में ना तो कोई साफ सफाई है और ना ही शौचालय की साफ सफाई है शौचालय पूरी तरह गंदगी से लबालब बदहाल है वैसे तो इस स्कूल को माननीय सांसद एटा और उनके बेटे उत्तर प्रदेश सरकार में शिक्षा मंत्री संदीप सिंह ने इन्होंने इस स्कूल को मॉडल कान्वेंट स्कूल तो बना दिया लेकिन आपको इन तस्वीरों को देखने के बाद खुद पता चल जाएगा यह कैसा कान्वेंट स्कूल है

बाइट- प्रशिक्षु टीचर

बाइट- स्कूल में कार्य करने वाला बच्चा

अन्य अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं| आप हमारा एंड्राइड ऐप भी डाउनलोड कर सकते है|

loading...

Check Also

सिंगरौली जिले के सर्किट हाउस के सभागार में संयुक्त श्रमजीवी पत्रकार महासंघ की वैठक

आज सिंगरौली जिले के सर्किट हाउस के सभागार में संयुक्त श्रमजीवी पत्रकार महासंघ ( AIUWJU) …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com