Home >>> सोनभद्र / सिंगरौली >>> *कोयला श्रमिक सभा( एच एम एस) ने एन सी एल के अध्यक्ष सह प्रवन्ध निदेशक सहित सम्बन्धित अधिकारियों को सात सूत्रीय ज्ञापन प्रेषित कर मजदूर हित मे उठाया बड़ा कदम -!* *एन सी एल की खडिया परियोजना में कार्यरत में0 बी जी आर और में0, मोन्टीकारलो क0 में होरहे मजदूरों के शोषण को बन्द करने कि ,  की मांग-* *महामंत्री अशोक कुमार पांडेय-!*

*कोयला श्रमिक सभा( एच एम एस) ने एन सी एल के अध्यक्ष सह प्रवन्ध निदेशक सहित सम्बन्धित अधिकारियों को सात सूत्रीय ज्ञापन प्रेषित कर मजदूर हित मे उठाया बड़ा कदम -!* *एन सी एल की खडिया परियोजना में कार्यरत में0 बी जी आर और में0, मोन्टीकारलो क0 में होरहे मजदूरों के शोषण को बन्द करने कि ,  की मांग-* *महामंत्री अशोक कुमार पांडेय-!*

*कोयला श्रमिक सभा( एच एम एस) ने एन सी एल के अध्यक्ष सह प्रवन्ध निदेशक सहित सम्बन्धित अधिकारियों को सात सूत्रीय ज्ञापन प्रेषित कर मजदूर हित मे उठाया बड़ा कदम -!*

*एन सी एल की खडिया परियोजना में कार्यरत में0 बी जी आर और में0, मोन्टीकारलो क0 में होरहे मजदूरों के शोषण को बन्द करने कि , की मांग-*

*महामंत्री अशोक कुमार पांडेय-!*

*सिंगरौली।*

एन सी एल के कोयला खदानों में कार्यरत आउटसोर्सिंग कम्पनियों में कहते हैं कि लगभग 20 हजार के आस पास श्रमिक कार्यरत हैं।

इन कम्पनियो में कार्यरत श्रमिको की हालत बद से बदतर है।इनका खुला शोषण वर्षो से होता चला आरहा है।

यहा कार्यरत ज्यादातर कम्पनियां दक्षिण भारतीय है।
इन कम्पनियों में उत्तर भारतीयों के साथ अपमान जनक व्यहार करने की बाते खुल कर सामने आरही है।
जिससे उत्तर भारतीय श्रमिको में आक्रोश बना हुआ है।
जिस पर प्रबन्धन सहित सम्बन्धितों ने समय रहते उपयुक्त पहल नही की तो इस सम्भावना से भी इंकार नही किया जासकता है कि यह आनेवाले दिनों में कोयला उद्योग के आओद्योगिक शांति के लिए खतरा न बन जाये।

खदानों में काम करने वाले इन श्रमिको पर बने श्रम कानूनों का का धज्जी उड़ाते हुए संविदाकार इनसे गुलामो की तरह काम ले रहे हैं।
इनसे 8 घण्टे के बजाय 12 घण्टे तक काम कराया जारहा है।विरोध करने पर इन्हें काम से निकाल देने की धमकी दी जाती है ।
यदि अपनी जायज मांगो के लिए ये संगठित हो कर ये कभी अपनी आवाज बुलंद करने का प्रयास किये तो इनके लठैत और स्थानीय पुलिस के सहयोग से इनकी आवाज दबा दी जाती है।
इस तरह इनका शोषण बदस्तूर जारी रहता है ।

इन श्रमिको के शोषण से कम्पनियो के होरहे मुनाफे में सभी भागीदार बने हुए है, इनमें राजनेता,श्रमिक नेता,प्रशासनिक अधिकारी,एन सी एल प्रवन्ध,स्थानीय जनप्रतिनिधिगण, आदि सभी सम्मलित है। जो ग़ुलाबी कागज के टुकड़ो के आगे अपनी जमीर बेचते हुए मजदूरों का शोषण कराने में अपना बर्दहस्त दे बराबर के पाप के भागीदार बने हुए हैं।

अब तो हद ही हो गया जब शराब के नशे में धुत्त इन कम्पनियों के गुर्गे व लठैत रात के 12 -1 बजे खदान में पहुच श्रमिको के साथ धमकी,गाली गलौज, दुर्व्यवहार भी करना शुरू कर दिए हैं।
जो कोयला उद्योग के ओद्योगिक शांति के लिए खतरे का संकेत भी है और भविष्य में किसी तरह की अप्रिय घटना न घट जाए कि सम्भावना से इनकार भी नही किया जा सकता है।

एन सी एल प्रबन्धन यह सब जानते हुए न जाने क्यो “आँख मूँदे”, “कान में तेल डालें”, “हाथ पर हाथ रखे” हुए हैं।

जो इस क्षेत्र में दशको से चले आरहे ओद्योगिक शांति के लिए शुभ संकेत तो कमसे कम नही ही कहा जा सकता है।

उपरोक्त को ही ध्यान में रखते हुए कोयला श्रमिक सभा सम्बद्ध (हिन्द मजदूर सभा) एन सी एल के महामंत्री साथी अशोक कुमार पांडेय ने आज एक सात सूत्रीय ज्ञापन खडिया परियोजना के महाप्रबंधक को प्रस्तुत किया है ।

जिसकी प्रति एनसीएल के
सी एम डी सहित कम्पनी के सभी निदेशकों व महाप्रबंधक का0 तथा क्षेत्रीय श्रमायुक्त केंद्रीय इला0,जिलाधिकारी सोनभद्र,पुलिस अधीक्षक सोनभद्र,थाना प्रभारी शक्ति नगर, राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नाथूलाल पांडेय जी एचकेमएफ/एचएमएस तथा के एस एस के संरक्षक के सी शर्मा को भी प्रेषित किया है ।

प्रेषित पत्र में यूनियन के महामंत्री अशोक कुमार पांडेय ने श्रमिको क़े शोषण और उत्पीड़न व हो रही उनके साथ नाइंसाफी का विस्तार से उल्लेख किया है।

जिनमे प्रमुख तौर पर यह उल्लेख किया है कि उक्त कम्पनियो में कार्यरत हजारो श्रमिको को सितंबर 2018 से लागू नया वेतनमान अभी तक ल नही दिया जारहा है।
बोनस का बकाया राशि इन्हें सही ढंग से नही मिलाहै।
साल भर में मिलने वाले अवकाश का भुगतान इन्हें नही मिल रहा है,

बल्कि श्री पांडेय ने यह उल्लेख किया है कि उल्टे इनके साथ कम्पनी प्रबन्धन व उनके पालतू गुर्गे व लठैत उनका अमानवीय शोषण ,उत्पीड़न,उनके साथ दुर्व्यहार कर रहे है ।जो अच्छम्य है।
श्री पांडेय ने उपरोक्त स्थिति की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए एनसीएल प्रबन्धन से आग्रह किया है कि वे तत्काल हस्तछेप कर इसे बन्द कराए नही तो यूनियन को मजदूर और कोयला उद्योग के हित मे कड़ा कदम उठाना पड़ेगा जिसका जिम्मेदार एनसीएल प्रबन्धन होगा ।

श्री पांडेय ने देश व्यापी आंदोलन के दौरान शांतप्रिय ढंग से अपनी मांगों को लेकर आंदोलन रत बी जी आर के निहत्थे श्रमिको पर रात के अंधेरे में कम्पनी के गुर्गे व पाले हुए लठैतों ने शराब के नशे में प्रशासनिक अमले के साथ पहुच जो नग्न तांडव नृत्य किया है ।यह बर्दास्त योग्य नही है ।

इसका जबाब एनसीएल प्रबन्धन को देना ही होगा ।
रात को खदानों में किस तरह कम्पनी सरहंगों को निषेद्ध क्षेत्र में लेजाकर श्रमिको भयभीत करा रही है।

जीसकी कड़े शब्दों में भर्त्सना यूनियन करती है ।

प्रेषित ज्ञापन में अन्य प्रमुख मांगो में 1-बढ़े वेतन का बकाया बकाया वेतन एरियर के साथ भुगतान कराया जाय।

2-हाई पावर कमेटी के अनुशंसा पर जारी वेतन में जिसे 21,12,2018 से लेकर अब तक येरियर के साथ भुगतान कराया जाये।

3-उक्त दोनों कम्पनियों ने श्रमिको का सही बोनस नही दिया गया जिसे जांच करा के दिलाया जाए।

4-इन कम्पनियों ने राष्ट्रीय त्योहारों का सही भुगतान नही किया है जिसे जांच कर दिलाया जाए।

5-श्रमिको को वेतन पर्ची नही मिलती उसे चालू कराया जाए।

6-श्रमिको को भविष्य निधि के मद में जो राशि काटी गई हैं उसका विवरण श्रमिको को दिलाया जय।

7-निर्धारित समय से अधिक काम का लिया जाना,उत्तर भारत,दक्षिण भारत के श्रमिकों में भेदभाव कर कार्यस्थल का बातावरण विषाक्त व तनावग्र्स्त बना के रखना,आदि अन्य कई मुद्दों को उल्लेखित कर उसके शीघ्र समाधान कराए जाने की मांग की है।

उन्होंने पत्र में यह भी उल्लेख किया है कि उपरोक्त समस्याओ से त्रस्त बी जी आर के श्रमिको ने द्वितीय पाली में काम बंद कर दिया था।
इसके बाद 5 बजे खडिया परियोजना के क्रमिक विभाग के अधिकारीगण वहा पहुचे।
जहा कर्मचारियों ने यह समेस्या एनसीएल के अधिकारियों को भी बताई ।
अधिकारियों के आश्वासन पर श्रमिक नेता वहा से वापस चले आये।
रात में श्रमिकों के साथ जोर जबरजस्ती की गई और उनके साथ हुए दुर्व्यहार की जांच कराई जाए और संगठन के साथ बर्ता कर समेस्या के समाधान कराया जाए,
ताकि ओद्योगिक बातावरण मधुर बना रहे ।

अन्य अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं| आप हमारा एंड्राइड ऐप भी डाउनलोड कर सकते है|

loading...

Check Also

सिंगरौली जिले के सर्किट हाउस के सभागार में संयुक्त श्रमजीवी पत्रकार महासंघ की वैठक

आज सिंगरौली जिले के सर्किट हाउस के सभागार में संयुक्त श्रमजीवी पत्रकार महासंघ ( AIUWJU) …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com