Home >>> सम्पादकीय

सम्पादकीय

*बच्चियों की चीख़ें कौन सुने!* **************** अब्दुल रशीद✍🏻 *****************

देश के दिल दिल्ली के मंडावली इलाके में तीन बच्चियां शिखा, मानसी और पारुल अचानक दम तोड़ गईं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई तो पता चला कि उनके पेट में अन्न का एक दाना तक न था। मतलब यह की इन मासूमों को अन्न का एक दाना भी कई दिनों से नसीब …

Read More »

*स्त्री तबतक ‘चरित्रहीन’ नहीं हो सकती जबतक कि पुरुष चरित्रहीन न हो*, *गौतमबुद्ध*

संन्यास लेने के बाद गौतमबुद्ध ने अनेक क्षेत्रों की यात्रा की। एक बार वे एक गांव गए। वहां एक स्त्री उनके पास आई और बोली आप तो कोई राजकुमार लगते हैं। क्या मैं जान सकती हूँ कि इस युवावस्था में गेरुआ वस्त्र पहनने का क्या कारण है ? बुद्ध ने …

Read More »

*मेरा नाम लिया जाएगा / गोपालदास “नीरज”*

आँसू जब सम्मानित होंगे, मुझको याद किया जाएगा जहाँ प्रेम का चर्चा होगा, मेरा नाम लिया जाएगा मान-पत्र मैं नहीं लिख सका, राजभवन के सम्मानों का मैं तो आशिक़ रहा जन्म से, सुंदरता के दीवानों का लेकिन था मालूम नहीं ये, केवल इस ग़लती के कारण सारी उम्र भटकने वाला, …

Read More »

नीरज जी चले गए– समृति शेष के सी शर्मा , एडिटर इन चीफ Gtv न्यूज

स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से, लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से, और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे! नींद भी खुली न थी कि हाय धूप ढल गई, पाँव जब तलक उठे कि ज़िन्दगी फिसल गई, पात-पात झर गये कि …

Read More »

टैक्स चोरों के लिए अब हुआ नई पहल पढ़ें पत्रकार राजकुमार जायसवाल के कलम से लिखी हुई पुरी खास विचार

सुत्रो के द्वारा कहा जा रहा है कि जीएसटी परिषद रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म खत्म करना चाह रही है, लेकिन यह ठीक नहीं कि पहले जिस व्यवस्था को टैक्स चोरी रोकने में सहायक माना जा रहा था,उसे अब लागू न करने पर विचार किया जा रहा है। रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म वह …

Read More »

*छोटे एवं मझले पत्रकारों का भविष्य संकट में*

अखबार या समाचार पत्र अभिव्यक्ति की आजादी का सबसे बड़ा उदाहरण है पर दिनों दिनों समाचार पत्रों की घटती संख्या और शासकीय नियम कानून और कायदे के जटिलता के कारण मृत पाए होने की स्थिति में हैं। लघु एवं मध्यम समाचार पत्रों की आखिर दुर्दशा के पीछे वह कौन है …

Read More »

*आओ देखे समस्या कहां है।* *कुछ समझने की कोशिश करें बलात्कार अचानक इस देश मे क्यो बढ़ गए ???* *कुछ उद्धरण से समझते हैं*

1) लोग कहते हैं कि रेप क्यों होता है ? एक 8 साल का लडका सिनेमाघर मे राजा हरिशचन्द्र फिल्म देखने गया और फिल्म से प्रेरित होकर उसने सत्य का मार्ग चुना और वो बडा होकर महान व्यक्तित्व से जाना गया। परन्तु आज 8 साल का लडका टीवी पर क्या …

Read More »

*कीमत ज़्यादा, ज़ायका कम,इस साल आम “खट्टे” हैं!* अब्दुल रशीद✍🏻 _____________

फलों के राजा आम के शौकीनों का ज़ायका इस साल थोड़ा कम मीठा रहेगा। इस साल आम के लिए मौसम का मिजाज कुछ ठीक नहीं रहा, लगातार आए तूफान, धूल भरी आंधियां और बेवक्त बारिश ने देश के सबसे बेहतर आम उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में आम उत्पादन को प्रभावित …

Read More »

एकाकी और अकेलेपन से मुक्ति दिलाने ब्राह्मण समाज का अभिनव का दूसरा प्रयास 17 जून को भोपाल में

भोपाल – अमूमन ब्राह्मण समाज को बेहद दकियानूसी परम्पराओ से बंधा हुआ और पूरानी प्रथाओं में जकड़ा हुआ माना जाता है पर जबलपुर में सम्पूर्ण ब्राह्मण समाज ने जो कर दिखाया उसने इस बात का सबूत दे दिया कि ब्राह्मण समाज के बारे में जो भी धारणाये बनी हुई है …

Read More »

“अप्रैल फूल” किसी को कहने से पहले इसकी वास्तविक सत्यता जरुर जान लें कि पावन महीने की शुरुआत को मूर्खता दिवस कह रहे हो !!

पता भी है क्यों कहते है अप्रैल फूल (अप्रैल फूल का अर्थ है – मूर्खता दिवस).?? ये नाम अंग्रेजों की देन है… कैसे समझें “अप्रैल फूल” का मतलब बड़े दिनों से बिना सोचे समझे चल रहा है अप्रैल फूल, अप्रैल फूल ??? इसका मतलब क्या है.?? दरअसल जब अंग्रेजो द्वारा …

Read More »
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com